December 11, 2007

सोचो कि भगवान का हो ऑफिस और वो भी हाईटेक


विजय झा जी का हल्का सा परिचय आपको करा चुका हूं. जो निजी तौर पर उन्हें जानते हैं वे यह भी मानते हैं कि विजय जी अपनी ही दुनिया में मस्त रहने वाले बेहद सरल इंसान हैं. सत्यप्रकाश चौधरी और अखिलेश्वर पांडेय जी उन्हें व्यावहारिक और सही समय पर सही निर्णय लेने वाला व्यक्ति मानते हैं. हम प्रभात खबर में थोडे से समय के लिए साथ काम कर चुके हैं, जिसमें उनसे एक कुलीग का सा ही रिश्ता बना रहा. मेरे बेलौस अंदाज और बेफ्रिकपने को विजय जी पहली मुलाकात से ही हंसी के सहारे झेला. आईटीओ पर दो साल बाद हुई एक मुख्तसर सी मुलाकात में उन पर दिल्ली के किसी भी रंग को न देख हैरत भरी खुशी हुई थी. आज सुबह उन्होंने अपनी कल्पना मिश्रित मजाकिया अंदाज की एक बानगी मुझे मेल की. आप लोगों के लिए जस की तस यहां प्रस्तुत है.
दुनिया की हर चीज तेजी से हाई टेक होती जा रही है। इन दिनों हर जगह आईवीआरएस (इंटर एक्टिव वाईस रिस्पॉंस सिस्टम) वाले फोन का बोलबाला है। अगर हाई टेक के इस जमाने में सुस्त चाल से कोई चल रहा है तो वह है हमारी सरकार और कामचोर सरकारी कर्मचारी और अधिकारी, हो सके तो इसमें मंत्रियों को भी शामिल कर लीजिए। इन दिनों आपके पास भले ही किसी का फोन नंबर हो आप उससे सीधे बात नहीं कर सकते क्योंकि फोन आपको हर बार एक नया निर्देश देकर आपकी गाड़ी आगे बढ़ा देता है, आप जितने नंबर दबाते जाओ फोन आपको उतना ही फालतू समझकर हर बार एक नया नंबर दबाने को कहता रहता है। आपका पाला तो अभी पृथ्वी पर रह रहे लोगों से ही पड़ रहा है, लेकिन अगर स्वर्ग में मौज मना रहे परमात्मा के दफ्तर में हाईटेक व्यवस्था हो जाए तो क्या होगा..किसी जमाने में पूरे ब्रह्मांड को अपने वश में कर लेने वाले लंकाधिपति रावण यानि लंकेश (हम बात कर रहे हैं दुनिया के सबसे लोकप्रिय धारावाहिक रामायण में रावण बने अरविंद त्रिवेदी की, जिन्होंने अपनी गरजदार आवाज और रौबदार व्यक्तित्व से दुनिया के इस सबसे बड़े खलनायक के इस चरित्र को जींवंत बना दिया था) ने बताया है कि भगवान के घर और दफ्तर के हाईटेक हो जाने के बाद वहाँ क्या हाल होगा...
जरा इस स्थिति की कल्पना कीजिए
आपने इधर भगवान के दफ्तर में फोन लगाया उधर से आवाज आती है-
भगवान को फोन करने के लिए आपका धन्यवाद।
कृपया इन निर्देशों को ध्यान से सुनें-
अगर आप इसाई हैं तो 1 नंबर डायल करें
अगर आप हिन्दू हैं तो 2 नंबर डायल करें
अगर मुस्लिम हैं तो 3 नंबर डायल करें
अन्य किसी धर्म से संबंध रखते हैं तो 0 नंबर डायल करें
अगर आपका कोई ईमान-धरम न हो तो तत्काल फोन रख दें।
अगर किसी हिन्दू ने 2 नंबर डायल कर दिया तो फिर होगा...कुछ ऐसा सुनाई देगा
प्रार्थना के लिए 1 नंबर दबाईये
भगवान को धन्यवाद देने के लिए 2 नंबर दबाईये
अपनी कोई इच्छा पूरी ने होने पर 3 नंबर दबाईये
किसी और जानकारी के लिए 4 नंबर दबाईये
अगर इसके बावजूद अपकी प्रार्थना नहीं सुनी गई है तो 4 नंबर दबाकर नारदमुनि से संपर्क करें।
और हो सकता है भगवान व्यस्त हों (अगर सरकारी अफसर और मंत्री फोन करने पर भगवान की पूजा में व्यस्त मिलते हैं तो फिर भगवान को भी तो व्यस्त रहना ही चाहिए, वे भी इऩ बेईमानों की बकबक सुनकर पता लगाते हैं कि आखिर ये पूजा करते किस बात की हैं) तो हो सकता है आपतो यह जवाब मिले-
क्षमा कीजिए इस समय सभी देवता अन्य भक्तों और पापियों के चक्कर में व्यस्त हैं, लेकिन आपकी प्रार्थना हमारे लिए बेहद मूल्यवान है, निश्चित समयावधि में आपकी प्रार्थना पर भी देवताओं द्वारा उचित जवाब दिया जाएगा।
अगर आपको अपने आराध्य देवता का एक्स्टेंशन नंबर पता है तो आप उस नंबर को डायल कर उनसे संपर्क कर सकते हैं।
अब आप जैसे ही कोई नंबर दबाते हैं फोन फिर चालू हो जाता है-
अगर आपको गणेशजी से बात करना है तो 1 नंबर दबाईये।
हनुमानजी के लिए 2 नंबर दबाईये।
कृष्ण भगवान के लिए 3 नंबर दबाईये।
अपने पापों के प्रायश्चित के लिए 4 नंबर दबाईये।
अपनी सिफारिश के लिए 5 नंबर दबाईये।
और हो सकता है कि आपको फोन पर यह आवाज भी सुनाई दे जाए-
मैं इस समय मानवता को बचाने के लिए एक खास तरह के युध्द के आयोजन में जा रहा हूँ और वर्ष 2012 तक व्यस्त रहूंगा। अगर आप तब तक इंतजार नहीं कर सकते तो शंकर भगवान से उनके फोन पर संपर्क कर लें। अगर आपको शंकर जी के अलावा किसी और देवता से बात करना है तो 6 नंबर दबाईये।
अगर आपका जीवनचक्र पूरा होने जा रहा है और आप अपने लिए स्वर्ग में कोई शानदार रिज़ॉर्ट बुक कराना चाहते हैं तो आपको इसके लिए िस तरह के निर्देश सुनने को मिल सकते हैं-
कृपया अपने नाम, सामाजिक स्तर, अपनी योग्यता संबंधी प्रमाण प्रस्तुत करें अगर आपके पास इस तरह का कोई प्रमाण नहीं है तो कृपया 420 नंबर डॉयल करें और हमारे प्रबंधक रावण से संपर्क करें, वे आपकी मदद करेंगे।
अगर आप स्वर्ग में अपने किसी सगे-संबंधी को खोजना चाहते हैं तो आपको कहा जाएगा-
कोई एक नंबर दबाईये, इसके बाद आपको एक मंत्र या श्लोक गाकर सुनाना होगा, अगर आपने यह मंत्र या श्लोक सही तरीके से गाया तो आपको संबंधित व्यक्ति के बारे में जानकारी उपलब्ध होगी। अगर संबंधित व्यक्ति स्वर्ग में मौजूद नहीं होगा तो आपको दोबारा नरक में रावण के दफ्तर में संपर्क करने को कहा जाएगा।
हो सकता है कि लोगों के फोन कॉल की बढ़ती संख्या पर कई बार भगवान के फोन पर कुछ इस तरह की आवाज सुनाई देने लगे-
हमारे कंप्यूटर रेकॉर्ड के मुताबिक आज आपकी एक प्रार्थना स्वीकार कर ली गई है, अब आप दोबारा अगले दिन ही संपर्क करें।
(संप्रति: विजय झा जी इन दिनों दैनिक जागरण, नोएडा में सेंट्रल डेस्क की टीम का हिस्सा हैं. इस पोस्ट की प्रशंसात्मक बधाई आप कमेंट के जरिए या फिर 00 00 0 00000 पर फोन कर उनसे बात कर दे सकते हैं. इस नंबर पर बात न होने पर दिल्ली एनसीआर के पाठक 98716 84455 दबाएं. दिल्ली के बाहर के पाठक नंबर के पहले 0 का प्रयोग करें या फिर +91 लगाएं. पोस्ट पूरी पढने के लिए धन्यवाद. यदि बीच का हिस्सा छोडकर सीधे नीचे कर्सर किया है तो धन्यवाद वापस कर दें. डिंग डांग)

3 comments:

अविनाश वाचस्पति said...

मजा जमा दिया मित्र
खींच दिया भगवान का भी चित्र
पर यह तो बतलाओ
जो एक बार में मिल जाता है
पूरे राग सुनाता है
कौन सी कंपनी का
कनैक्शन है
मोबाइल कौन सा है
जिसकी सारी लाईनें खुली हैं
एक भी व्यस्त नहीं मिली है
एक कनैक्शन हमें भी दिलवाओ प्यारे
हो जाएंगे वारे न्यारे तुम्हारे हमारे

रवीन्द्र प्रभात said...

क्या बात है, अच्छी परिकल्पना है !

रमेंद्र said...

फोन का बिल खत्म हो गया क्या. खैर छोड़ो, भगवान को आजकल कौन याद करता है. तुमने याद किया, भगवान का भगवान भला करेगा. लेकिन ये बताओ कामरेड, भगवान याद आए कैसे.........