May 27, 2007

मुझे भी आपसे कुछ कहना हैं

दोस्तो
मैं पहली बार आप लोगों से सीधे सीधे मुखातिब हूँ । या यूं कहूं कि अपनी ओर से कुछ कहने की हिम्मत कर पा रह हूँ ।
दरअसल आप जानते ही हैं कि मैं सबसे ज्यादा बेतुकेपन से डरता हूँ । और अब तक तुकें ही दूंढता रहा हूँ । इस बेतुकी बात मैं आपकी दिलचस्पी नहीं होगी लेकिन आप इससे जुडे हैं । मैं महसूस कर रह हूँ कि इन दिनों मैं और अधिक बेतुका हो गया हूँ । यहाँ यह बात पूर्व निर्धारित है कि मैं पहले ही यानी जन्मता बेतुका था । असल में मेरे बेतुकेपन में आपका भी योगदान है जिसे कोई कैसे नकार सकता है । आप यानी जो जालन्धर से बंगलूरू और अहमदाबाद से रांची और मुम्बई से गुवाहाटी तक फैले हुए हैं । जो सबसे ज्यादा भोपाल, रांची, दिल्ली और मेरठ में पाये जाते हैं । आप जिनसे मिलकर मैं इतना बेतुका हो गया हूँ कि ना अब कोई तुक की बात लिख पा रहा हूँ ना कह पा रह हूँ ।
मैं चाहता हूँ कि मैं अपने बचपन में लौट जाउँ अपने पूरे बचपने के साथ । इसका एक तरीका यह है कि मैं अपने भीतर अब तक की सारी सीखी सिखाई बातें बाहर उलीच दूं । वे बातें जो चौक-चौराहों, पान की गुमठियों, घरों, दफ्तरों, सड़कों, छतों, पबों यानी हर ऐसी जगह जहाँ दो इन्सान खडे हो सकते हैं, पे आप लोगों से सीखीं । सिग्रेट पीते, पान चबाते और बियर-विहिस्की पीते-पिलाते हुए आपने बताईं । कुल जमा जोड़ यह की जीवन के २६ वें वसंत में मैं थक गया हूँ । और मुझमें भरी आपकी भीड़ धक्कम धक्का रेलमपेल मचाये हुए है । अब आराम से अपने बचपने में जाने का तरीका यही है कि दिमाग का सारा अगड्म बगड्म फैंक डालूँ । इसमें जो सच होगा वह आपके हिस्से का होगा और जो झूठ जैसा लगेगा व होगा मेरे हिस्से का सच । यानी जो लिखूंगा सच लिखूंगा सच के अलावा कुछ ना लिखूंगा और लिखूंगा भी तो सच सच बताकर लिखूंगा । तो शुरू करते हैं शुरू से.